नई दिल्ली : गूगल प्ले स्टोर की कमजोरियां वक्त बे वक्त सामने आती रहती हैं. अभी हाल ही में प्ले स्टोर पर 13 खतरनाक ऐप्स पाए गए और इसे गूगल ने नहीं, बल्कि एक सिक्योरिटी रिसर्चर ने ढूंढा. हालांकि गूगल ने इन ऐप्स को हटा लिया. अब एक नई रिपोर्ट के मुताबिक 8 पॉपुलर ऐप्स गूगल प्ले स्टोर पर पाए गए जो फ्रॉड स्कीम के तहत थे.

बजफीड न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक ये 8 ऐप्स हैं और इनके 2 अरब डाउनलोड्स हैं. ये यूजर परमिशन का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं. ऐप ऐनालिटिक कंपनी Kochava रिसर्च के मुताबिक ये ऐप्स एक फ्रॉड स्कीम के तहत हैं जो लाखो करोड़ों की चपत लगाने के काबिल थे.

चीन के है 8 ऐप्स

चौंकाने वाली बात ये है कि 8 में से 7 ऐप्स चीता मोबाइल के हैं. ये कंपनी चीन की है और यह न्यू यॉर्क स्टॉक एक्स्चेंज में लिस्ट की गई है. इसके अलावा दूसरा ऐप Kika Tech का है और ये भी चीनी कंपनी है जिसका हेडक्वॉर्डर अमेरिका के सिलिकॉन वैली में है. इस कंपनी में 2016 में चीता मोबाइल ने काफी निवेश किया था. रिपोर्ट के मुताबिक इन कंपनियों के दुनिया भर में 700 मिलियन मोबाइल ऐप्स के ऐक्टिव यूजर्स हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक ये दोनों चीनी कंपनियों के ऐप्स यूजर्स द्वारा स्मार्टफोन में डाउनलोड की गई जानकारियों पर नजर रखते थे और इनका मकसद उन डेवेलपर्स का पैसा उड़ाना था जो ऐप इंस्टॉलेशन के लिए अक्सर 50 सेंट्स से 3 डॉलर लेते थे. कोचावा रिसर्च के मुताबिक चीता मोबाइल और किका टेक एंड्रॉयड यूजर्स द्वारा डाउनलोड किए गए ऐप्स पर नजर रखती थीं.

इन ऐप्स पर लगा है फ्रॉड का इल्जाम

जिन ऐप्स पर फ्रॉड का इल्जाम लगा है उसमें क्लीन मास्टर, CM फाइल मैनेजर, CM लॉन्चर 3D, सिक्योरिटी मास्टर, बैटरी डॉक्टर, CM लॉकर और चीता लॉकर शामिल हैं. जबकि किका टेक का Kika Keyboard पर भी फ्रॉड का इल्जाम लगा है.

चीता मोबाइल और किका टेक ने फ्रॉड से साफ इनकार किया है और इसके लिए उन्होंने थर्ड पार्टी सॉफ्टवेयर डेवेलपमेंट किट (SDK) को ब्लेम किया है. लेकिन बावजूद इसके Kochva रिसर्च ने कहा है कि कि ये SDK किसी थर्ड पार्टी डेवेलपर्स के नहीं, बल्कि इन्हीं कंपनियों के हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here