लखनऊ : केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र लखनऊ में अनेक विकास योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करते हुए कहा कि लखनऊ जल्द ही स्मार्ट सिटी बनेगा। सिंह ने लखनऊ में 938 करोड़ रुपये की लागत वाली 438 परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया.

उन्होंने कहा कि लखनऊ के सर्वांगीण विकास के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। लखनऊ के विकास की जो नींव पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने रखी थी, उसे बाद में सांसद लालजी टंडन और अब वह खुद आगे बढ़ा रहे हैं। लखनऊ जल्द ही स्मार्ट सिटी बनेगा।

उन्होंने कहा कि लखनऊ की आबादी 35 लाख से भी ज्यादा है और 20 लाख से भी ज्यादा पंजीकृत वाहन यहां हैं। राजधानी में 25-30 वर्षों के बाद की स्थिति के मद्देनजर आधारभूत ढांचे पर काम किया जा रहा है। आउटर रिंग रोड की घोषणा इसी की एक कड़ी है।

आउटर रिंग रोड से तेज होगी आर्थिक गतिविध

गृह मंत्री ने कहा कि आउटर रिंग रोड की स्वीकृति मिलते ही लखनऊ में आर्थिक गतिविधियों में तेजी आयी है। वर्ष 2013-14 तक जहां प्रतिवर्ष 23 लाख यात्रियों का राजधानी स्थित हवाई अड्डे से आना-जाना होता था, वही 2017-18 में यह संख्या 47 लाख तक पहुंच गयी है। इसे देखते हुए हवाई अड्डे की पैसेंजर हैंडलिंग क्षमता को सालाना एक करोड़ करने के लिये नयी इंटीग्रेटेड टर्मिनल बिल्डिंग का 1383 करोड़ रुपये की लागत से निर्माण स्वीकृत कर लिया गया है। इस महीने या अगले माह इसका शिलान्यास होगा।

चारबाग रेलवे स्टेशन का कम होगा बोझ

गृह मंत्री ने कहा कि प्रदेश में पहली बार एक साथ 6.24 किलोमीटर लंबाई के चार एलिवेटेड हाईवे का आज शिलान्यास हो रहा है। इनके निर्माण पर 414 करोड़ रुपये की लागत अनुमानित है। इसके अलावा 1900 करोड़ रुपये की लागत से गोमती नगर टर्मिनस का काम शुरू हो गया है। इसके बन जाने के बाद चारबाग रेलवे स्टेशन के बोझ को कम किया जा सकेगा।

1800 करोड़ कि लगत से हो रहा है काम

उन्होंने कहा कि चारबाग रेलवे स्टेशन पर 1800 करोड़ रुपये की लागत से काम हो रहा है। इससे जहां एक ओर यात्री सुविधाएं बढ़ेंगी वहीं आउटर पर रेलगाड़ियों में होने वाले संचालन विलंब को भी दूर किया जा सकेगा। इसी तरह 96 करोड़ रुपये की लागत से आलम नगर रेलवे स्टेशन के विकास का कार्य किया जा रहा है।

गोमती को प्रदूषण मुक्त करने के लिए उठाए गए महत्वपूर्ण कदमों की चर्चा करते हुए सिंह ने कहा कि हैदर कैनाल पर 336 करोड़ रुपये की लागत से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के काम को मंजूरी दे दी गई है। पिछले महीने की 25 जुलाई से काम भी शुरू हो गया है। इसी तरह 11 करोड़ रुपये की लागत से सामुदायिक शौचालयों पर काम किया जा रहा है।

क्या बोले सीएम योगी?

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर कहा कि उनकी सरकार के पिछले 15 महीनों के कार्यकाल के दौरान जहां प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति बहाल हुई है वहीं सड़कों तथा सस्ती दर पर निर्बाध बिजली मुहैया कराने की दिशा में भी उल्लेखनीय कार्य हुआ है। स्मार्ट सिटी और अमृत योजनाओं के तहत लखनऊ के विकास की दिशा में तेजी से कार्य हो रहा है।

कार्यक्रम में गृहमंत्री और मुख्यमंत्री ने ‘सबका साथ सबका विकास, ग्राम सड़क योजना’ और ‘गौरवपथ- एक अभिनव प्रयास योजना’ पर पुस्तिकाओं का विमोचन भी किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here