सोनीपत। पिछले 15 साल से अधर में लटके और कई लोगों की जान की आहुति के बाद केजीपी एक्सप्रेस-वे का आखिरकार 27 मई को उद्घाटन होगा। जिसको हरी झंडी देंगे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

केजीपी एक्सप्रेस-वे भले ही इस पर काम शुरु होने के बाद रिकार्ड के अनुसार इसे 2 साल से भी कम समय में पूरा कर दिया हो लेकिन सवाल तो फिर भी खड़ा होता है कि प्रगति और खुशहाली क्या राजनीति की बेड़ियों में जकड़ी हुई हैं?

लंबे इंतज़ार के बाद एक्सप्रेस-वे पर दौड़ेंगी गाड़ियां

केजीपी के उद्घाटन के लिए काफी तैयारियां की गई हैं। इसके बनने में लगभग 5800 करोड़ का खर्च आया है।

कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस वे (इस्टर्न पैरीफेरल एक्सप्रेस वे) का उद्घाटन 27 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। उद्घाटन समारोह उत्तर प्रदेश के बाघपत जिले के खेल स्टेडियम में आयोजित एक विशाल समारोह में किया जाएगा। इससे पहले प्रधानमंत्री सोनीपत जिला के जाखौली गांव में केजीपी के किलोमीटर नंबर-5 पर बनाए गए टोल प्लाजा में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की डिजीटल आर्ट गैलरी का उद्घाटन भी करेंगे।

प्रधानमंत्री के आगमन के लिए केजीपी पर ही हैलीपेड बनाया गया है। यहां से प्रधानमंत्री किलोमीटर नंबर-5 पर बने टोल प्लाजा के नीचे बनाई गई डिजिटल आर्ट गैलरी का उद्घाटन करेंगे। यहां से वह सीधे उत्तर प्रदेश के खेकड़ा जाएंगे और वहां विधिवत तौर पर केजीपी का उद्घाटन करेंगे। हाईवे के निर्माण के लिए 910 दिन का लक्ष्य रखा गया था लेकिन इसे मात्र 500 दिन में ही बनाकर तैयार कर दिया गया।

हाईवे में प्रत्येक 500 मीटर पर दोनों तरफ रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था की गई है। सौर ऊर्जा का प्रयोग किया गया है। देश की कला व संस्कृति को दर्शाते इंडिया गेट, गेटवे आफ इंडिया, अशोका स्तंभ जैसे 36 स्मारकों की प्रतिकृति स्थापित की गई है।

हरियाणा के सोनीपत जिले के कुंडली से शुरू होकर हरियाणा के ही पलवल तक पहुंचने वाला ये एक्सप्रेस-वे अपने आप में अनोखा है। 135 लंबा यह कुंडली गाजियाबाद पलवल एक्सप्रेस-वे (केजीपी) दिल्ली के इस्टर्न पैरीफेरल एक्सप्रेस-वे के तौर पर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा तैयार किया गया है। यानि ये वाहनों के दिल्ली के बाहर ही रखेगा जिन्हें दिल्ली के अदंर से निकलकर आगे का सफर तय करना पड़ता था। यह एक्सप्रेस-वे कुंडली-मानेस-पलवल में जाकर मिलेगा।

कुछ आंकड़े-

  • केजीपी एक्सप्रेस-वे में कुल 50 पुल हैं।
  • 8 रेलवे ओवरब्रिज और सात इंटरचेंज प्वाइंट भी हैं।
  • पैदल चलने वालों की सुविधा के लिए 152 अडंरपास बने है।
  • अन्य गाड़ियों की सुविधा के लिए 77 वाहन अडंरपास बने हैं।
  • एक्सप्रेस-वे पर इंडिया गेट, गेटवे आफ इंडिया, अशोक स्तंभ सहित सभी स्मारकों की प्रतिकृतियां भी लगाई गई हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here