स्पेशल डेस्क: आज के समय में बच्चे, नौजवान सभी पिज्जा के शौकीन होते हैं। पिज्जा खाने में जितना स्वादिष्ट लगता है उतना ही सेहत के लिए हानिकारक भी होता है. पर कही ना कही इसे खाना फायदेमंद भी हो जाता है.बतादे कि ऑफिस में लगातार काम करने से मन और शरीर दोनों थक जाते हैं, जिसके कारण आपके काम की क्षमता पर असर पड़ने लगता है। फिर से अपने काम की क्षमता को बेहतर बनाने के लिए प्रोत्साहन की आवश्यकता होती है।

यदि हम कहें कि स्वादिष्ट और अच्छा खाना काम की क्षमता को बेहतर बनाने में प्रोत्साहित करता है तो यह बात बिल्कुल सही है। जब स्वादिष्ट खाने की बात हो तो पिज्जा का नाम आना स्वभाविक है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि पिज्जा में अधिक मात्रा में कैलोरी होती हैं जो कि हेल्थ के लिए अच्छी नहीं होती हैं लेकिन फिर भी लोग पिज्जा खाने से मना नहीं करते। अब पिज्जा खाने से मना न करने का एक और कारण है। एक स्टडी में पता चला है कि पिज्जा खाने से आपके काम करने की क्षमता को बढ़ती है।

स्टडी 
एक अमेरिकी साइकोलॉजिस्ट ने कर्मचारियों की काम करने की क्षमता को जानना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने एक फैक्ट्री में रिसर्च करना तय किया। फैक्ट्री में काम करने वाले कर्मचारियों को अच्छा काम करने पर तीन तरीके से इनसेंटिव देने का ऑफर किया गया। जिसमें पिज्जा (फ्री खाना), बोनस क्लेम (मनी) और बॉस की ओर तारीफ शामिल थी। इसके बाद अधिकतर कर्मचारियों ने फ्री पिज्जा का ऑफर स्वीकार किया। वहीं, कुछ लोगों ने ही बोनस और तारीफ का ऑफर लिया।

एक सप्ताह बाद जब कर्मचारियों के काम की तुलना की गई तो पाया गया कि जिन लोगों ने पिज्जा खाने का ऑफर स्वीकार किया था, उन लोगों के काम करने की क्षमता में 6.7 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई। जिन लोगों ने बॉस की तरफ से तारीफ का ऑफर लिया था, उन लोगों की काम की उत्पादकता में 6.6 प्रतिशत की बढ़त हुई। वहीं, जिन लोगों ने ऑफर में बोनस लिया था, उन लोगों की काम की क्षमता में 13 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई। स्टडी में सामने आया कि पैसा ज्यादा समय तक आपको प्रोत्साहित नहीं कर सकता जबकि खाना लोगों को अधिक समय तक प्रोत्साहित करता है। खाना और काम की तारीफ कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने में सहायक होती है। यदि आप अपने काम की क्षमता को बेहतर बनाना चाहते हैं तो पिज्जा का ऑफर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here