नई दिल्ली। पाकिस्तान में इमरान खान के शपथ ग्रहण को अभी एक ही दिन बीता है और वहां की नई सरकार ने कश्मीर राग छेड़ दिया है। ताजा मामले में पाकिस्तान के विदेश मंत्री एसएम कुरेशी ने दावा किया है नई सरकार बनने के बाद भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पत्र लिखकर कश्मीर मुद्दे पर बातचीत की इच्छा जताई है। हालांकि, मीडिया में सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों के अनुसार भारत ने ऐसा कोई पत्र नहीं लिखा है।

पाकिस्तानी की एक न्यूज चैनल के मुताबिक विदेश मंत्री कुरेशी ने पीएम मोदी द्वारा पत्र लिखकर बातचीत शुरू करने की तरफ इशारा करने का दावा करते हुए कहा है कि भारत और पाकिस्तान को सच्चाई अपने सामने रखते हुए आगे बढ़ना चाहिए।

उन्होंने कहा कि भारत के साथ लगातार और निर्बाध बातचीत की जरूरत है, हम पड़ोसी हैं। हमारे सामने लंबे समय से लंबित मामले हैं और दोनों देश इस बारे में जानते हैं। हमारे पास बातचीत के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। हम रोमाच अफोर्ड नहीं कर सकते।

कुरेशी आगे बोले कि यह मुद्दे जटिल हैं और इन्हें सुलझाने में हमें समस्याएं आ सकती हैं लेकिन हमें बातचीत करनी ही होगी। हमें मानना होगा कि हम समस्याओं का सामना कर रहे हैं, हमें मानना होगा कि कश्मीर सच्चाई है। इस्लामाबाद डिक्लेरेशन इतिहास का हिस्सा है।

वहीं सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों में पाक के विदेश मंत्री के दावों को खारिज करते हुए कहा गया है कि भारतीय प्रधानमंत्री ने इमरान खान को एक बधाई पत्र लिखा था, इसमें बातचीत को लेकर कोई नया प्रस्ताव नहीं था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here