जून 2018 में किम से मिले थे ट्रंप

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की पहली मुलाकात 12 जून 2018 को हुई थी. लंबे मंथन के बाद इस ऐतिहासिक बैठक के लिए सिंगापुर को चुना गया था. जहां दोनों नेताओं की बैठक के बाद ट्रंप ने बताया था कि जल्द ही उत्तर कोरिया में परमाणु निरस्त्रीकरण का काम शुरू हो जाएगा. यह भी खबर सामने आई कि किम ने ऐसा करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई है.

हालांकि, बैठक के कुछ वक्त बाद ही उत्तर कोरिया की तरफ से बगावती सुर सामने आने लगे. उत्तर कोरिया की तरफ से कहा गया कि जब तक अमेरिका युद्ध के अंत का ऐलान नहीं करता है, तब तक वह परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में कोई कारगर कदम नहीं उठाएगा.

इसके बाद से ही दोनों देशों के बीच कोल्ड वॉर देखने को मिली है और ट्रंप की कोशिश किसी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच पाई है. अब जबकि एक बार फिर दोनों नेता मिलने जा रहे हैं, ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि डोनाल्ड ट्रंप क्या किम को मना पाते हैं या नहीं?

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की पहली मुलाकात 12 जून 2018 को हुई थी. लंबे मंथन के बाद इस ऐतिहासिक बैठक के लिए सिंगापुर को चुना गया था. जहां दोनों नेताओं की बैठक के बाद ट्रंप ने बताया था कि जल्द ही उत्तर कोरिया में परमाणु निरस्त्रीकरण का काम शुरू हो जाएगा. यह भी खबर सामने आई कि किम ने ऐसा करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई है.

हालांकि, बैठक के कुछ वक्त बाद ही उत्तर कोरिया की तरफ से बगावती सुर सामने आने लगे. उत्तर कोरिया की तरफ से कहा गया कि जब तक अमेरिका युद्ध के अंत का ऐलान नहीं करता है, तब तक वह परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में कोई कारगर कदम नहीं उठाएगा.

इसके बाद से ही दोनों देशों के बीच कोल्ड वॉर देखने को मिली है और ट्रंप की कोशिश किसी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच पाई है. अब जबकि एक बार फिर दोनों नेता मिलने जा रहे हैं, ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि डोनाल्ड ट्रंप क्या किम को मना पाते हैं या नहीं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here