नई दिल्ली : ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली ही इंसान का भाग्य तय करती है। कुंडली और ग्रहों की स्थिति का हर व्यक्ति के जीवन में अहम रोल होता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि ग्रहों के कमजोर होने का एक कारण आपका अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से रुखापन भी हो सकता है। आपको ये जानकर थोड़ी हैरानी हो रही होगी, लेकिन ये बात सच है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार व्यक्ति का अपने बड़ों से अच्छा व्यवहार है या नहीं, इसका असर उसके ग्रहों पर देखने को मिलता है। शास्त्रों को अनुसार गलत व्यवहार का असर गलत और अच्छे व्यवहार का असर अच्छा होता है। इस खबर के माध्यम से हम आपको बता रहे हैं, कि घर के बड़ों के साथ आपका व्यवहार कैसा और क्यों होना चाहिए।

पिता को नाराज करने का नुकसान

ज्योतिष शास्त्रियों की मानें तो पिता का संबंध सूर्य ग्रह से होता है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति अपने पिता का आदर-सम्मान नहीं करता उसकी कुंडली में सूर्य की स्थिति हमेशा खराब रहती हैं। इसके चलते संबंधित व्यक्ति को अपयश और दिल से जुड़ी समस्या का सामना करना पड़ता है। जीवन में सफलता चाहते हैं तो अपने पिता से हमेशा मधूर संबंध रखे।

मां को हमेशा रखे खुश

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, मां का संबंध चंद्रमा ग्रह से होता है। इसके अनुसार जिन लोगों का रिश्ता अपनी मां से खराब या थोड़ा बिगड़ा हुआ होता है तो समझ लें कि चंद्रमा ग्रह हमेशा कमजोर ही रहेगा। ऐसे व्यक्ति को मानसिक परेशानियों से गुजरना पड़ता है।

यदि आपके साथ भी एक के बाद एक कई मानसिक परेशानियां हो रही है तो मां के प्रति प्रेम भाव को जगाए और उन्हें मान-सम्मान दें। बता दें कि, कुंडली में चंद्रमा के शुभ प्रभाव के चलते आयु बढ़ती है। चंद्रमा की स्थिति खराब होने पर अपनी मां को चांदी की चीजें भेंट करें।

दुर्घटना से बचना चाहते हैं तो करें ये काम

शास्त्रों के अनुसार भाई-बहनों का संबंध मंगल ग्रह से होता है। ऐसा माना जाता है कि, अगर मंगल ग्रह कमजोर हो तो व्यक्ति को बहुत बड़ी दुर्घटना का सामना करना पड़ सकता है। जीवन में इस तरह की घटनाओं से बचने के लिए भाई-बहनों से अपना रिश्ता कभी खराब न करें, क्योंकि उनको दुखी करने से आप भी अंदर से कभी खुश नहीं रह पाओगे। इस रिश्ते मजबूत बनाए रखने के लिए हमेशा अपने भाई-बहनों को गिफ्ट देते रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here