स्पेशल डेस्क : जंजीर से लेकर पिंक तक अपने अभिनय के अनगिनत रंगों से रंगकर अमिताभ ने बॉलीवुड की गलियों को सजाया है. अपने जीवन के 40 बसंत इन्होंने अभिनय को दे दिए और अभी भी किसी नए कलाकार से ज्यदा व्यस्त रहेते है. आज इस बॉलीवुड शंहशाह का 76वां जन्मदिन हैं। अमिताभ बच्चन का जन्म संगम नगरी इलाहाबाद में 11 अक्टूबर 1942 में हरिवंश राय बच्चन के घर हुआ था। बॉलीवुड में यह एक ऐसे अभिनेता हैं जिन्हे शायद ही कोई पसंद न करता हो। वह सबके चहेते और सबके फेवरेट हैं।

यूं तो बॉलीवुड में न जाने कितने स्टार्स आते हैं। कोई अपने परिवारिक विरासत के तौर पर तो कोई किसी के सोर्स पर आते हैं। कुछ स्टार्स आकर इंडस्ट्री में नाम कमाते हैं और कुछ गुमनामी के अंधेरे में न जाने कहां गुम जाते हैं। ऐसे में अमिताभ बॉलीवुड के एक एक सदाबहार अभिनेता हैं, जिन्हें लोग हर समय और हर भूमिका में पसंद करते हैं। वह एक ऐसे स्टार हैं जो करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणादायक हैं।

Image result for amitabh bachchan

कोई उनके पहनावे से तो कोई उनकी बुलंद आवाज से कोई व्यक्तित्व से तो उनके द्वारा बयां किए विचारों से प्रभावित है। उनके डायलॉग्‍स और कार्य करने की क्षमता भी कमाल की है। उनके नाम सबसे ज्‍यादा ब्‍लॉकबस्‍टर फ‍िल्‍मों का र‍िकॉर्ड दर्ज है। अमिताभ एक ऐसी शख्सियत हैं जिनका दुनिया जितना उनका सम्मान करती है उतना ही सम्मान उनके दिल में दूसरों के लिए है।

लेखक यशवंत व्‍यास की किताब ‘अमिताभ का अ’ में साफ तौर पर लिखा है कि कोई ऐसे ही नहीं अमिताभ बन जाता है, इसके लिए बेहद परिश्रम करना पड़ता है। खुद को तपाना पड़ता है और डूब जाना पड़ता है। अभिनय की क्षमता पैदा करनी होती है और अपने काम की पूजा करनी पड़ती है। तब जाकर कोई सदी का महानायक बन पाता है। यूं तो अमिताभ के बारे में उनके चाहने वाले बहुत कुछ जानते हैं लेकिन यहां हम उनके जीवन से जुड़ीं कुछ ऐसी अनसुनी बातें बता रहे हैं जिनसे आप अंजान हैं।

Amitabh Bachchan

सुमित्रा नंदन पंत के कहने से मां ने बदला नाम

जिस दौरान अमिताभ का जन्म हुआ था तब उन्हें अस्पताल में देखने महान कवि सुमित्रा नंदन पंत आए थे। कवि ने मां के पास शांत लेटे हुए उनके बेटे को देखते ही कह दिया था ऐसा लग रहा हा जैसे ‘ध्यानस्थ’ अमिताभ। तभी हरिवंश राय बच्चन की पत्नी तेजी ने बेटे का नाम अमिताभ रख दिया था। अमिताभ का अर्थ है अनंत प्रतिभा वाला। ( Unlimited brilliance) जैसा कि उनके नाम अर्थ है और वह वास्तव में कई प्रतिभाओं के धनी हैं। पहले अमिताभ का नाम इंकलाब रखा गया था लेकिन सुमित्रा नंदन पंत के कहने भर से मात्र तेजी ने बेटे का नाम बदल दिया था।

Amitabh Bachchan

800 रुपए मासिक वेतन पर करते थे काम

अमिताभ एक्टिंग में आने से पहले कोलकाता में एक रेडियो स्टेशन पर अनाउंसर के तौर पर काम किया करते थे। इसके बाद उन्होंने एक शिपिंग कंपनी में भी काम किया, जहां पर उन्हें 800 रुपए मासिक वेतन मिलता था। कोलकाता के बाद अमिताभ मुंबई आए। जहां पर उन्हें इंदिरा गांधी की सिपारिश से ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म सात हिंदुस्तानी में काम करने का मौका मिला और इसके लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला। बता दें अमिताभ की मां इंदिरा गांधी की अच्छी दोस्त थीं।

शराब बनाने वाली कंपनी में लगी पहली जॉब

उन्होंने अपनी पहली जॉब शराब बनाने वाली कंपनी शॉ वॉलेस में की थी। हालांकि वह कभी शराब नहीं पीते जबकि वह एक शराबी की भूमिका बखूबी कर सकते हैं।

Image result for amitabh bachchan

दोनों हाथों से लिख सकते है अमिताभ

अमिताभ बच्चन ने मुबंई में अपने संघर्ष के दिनों में कई रातें मरीन ड्राइव पर रखी बेंच पर गुजारी हैं। अमिताभ बच्चन अपने दोनों हाथों से बेहतरीन तरीके से लिख सकते हैं।

नहीं पसंद है ‘बॉलीवुड’

अमिताभ को हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के लिए प्रयोग किया जाने वाले बॉलीवुड शब्द पसंद नहीं है क्योंकि यह नाम हॉलीवुड पर आधारित है

Image result for amitabh bachchan

इस हॉलीवुड फिल्म में भी किया है काम

बहुत कम लोग जानते हैं कि अमिताभ ने एक हॉलीवुड फिल्म में भी काम किया है। उन्होंने 2013 में लियोनार्डो डी कैप्रियो अभिनीत ‘द ग्रेट गैट्सबी’ से अपना हॉलीवुड डेब्यू किया था।

जब अमिताभ से लिपट रो पड़े उनके पिता…

अमिताभ बच्चन को कुली की शूटिंग के दौरान गंभीर चोटें आई थीं। तब उन्हें कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अमिताभ ने अपने पिता हरिवंश के साथ एक फोटो शेयर लिखा था कि उन्होंने अपने पिता की आंखों में कभी आंसू नहीं देखे थे। लेकिन जब वह कुली के सेट से घायल होकर लौटे तो उनके पिता लिपटकर रोने लगे। ये मोमंट मीडिया ने अपने कैमरे में कैप्चर किया था। इस दौरान इंदिरा गांधी भी उन्हें देखने आई थीं।

Amitabh Bachchan

सेल्फ-सर्विस नहीं है पसंद

अमिताभ बच्चन को सेल्फ-सर्विस पसंद नहीं है। वे चाहते हैं कि जया बच्चन उनको अपने हाथों से भोजन सर्व करें।

गुलाब जामुन है बेहद पसंद

अमिताभ बच्चन शुद्ध शाकाहारी हैं। उन्हें आलू-पूड़ी, पकोड़ा, ढोकला और पराठा बेहद पसंद हैं। उनको गुलाब जामुन भी बहुत अच्‍छे लगते हैं। वहीं वह दिन में एक बार भोजन, अमूमन ड‍िनर, परिवार के साथ करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here