कोलकाता। पश्चिम बंगाल में जानलेवा ऑनलाइन गेम “मोमो” का आतंक दिन-ब-दिन बढ़ रहा है। रोजाना नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। खासकर युवाओं को ही निशाना बनाने की कोशिश की जा रही है। जलपाईगुड़ी के बाद अब अलीपुरद्वार, उत्तर दिनाजपुर, कूचबिहार और उत्तर 24 परगना जिलों में मोमो ने दस्तक दी है। इसे देखते हुए सीआईडी सतर्क हो गई है और उसने जागरुकता अभियान चलाया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक अलीपुरद्वार के फालाकाटा में एक किशोर के मोबाइल पर मोमो का लिंक आया। किशोर का नाम नेहाल हुसैन है। वह जटेश्वर हाई स्कूल में 11वीं का छात्र है। उसने बताया कि उसके व्‍हाट्सएप पर मोमो की डरावनी डीपी लगे अज्ञात नंबर से मैसेज भेजकर इसे खेलने की चुनौती दी गई। उसने उस नंबर को ब्लॉक कर दिया है। कुछ दिन पहले जलपाईगुड़ी में एक कॉलेज छात्रा के व्‍हाट्सएप पर भी मोमो चैलेंज आया था।

लिखा था-“हाय, आई एम मोमो! शैल यू प्ले ए गेम?” छात्रा ने घबराकर अपने भैया को यह बात बताई थी, जिसके बाद भैया ने उस नंबर को ब्लॉक कर दिया था। वहीं कर्सियांग में मोमो के एक छात्र को अपना शिकार बना लेने का संदेह है। मनीष नाम के उस छात्र का शव उसके फार्म हाउस में 20 अगस्त को फंदे से लटकता मिला था। फार्म हाउस की दीवारों पर कई नाम लिखे हुए थे, जिसे देखकर ही संदेह गहरा रहा है।

मृतक के परिजनों का दावा है कि मनीष मोमो के फंदे में फंस गया था। मोमो के बढ़ते आतंक को देखते हुए सीआईडी हरकत में आई है। सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों, खासकर बच्चों और युवाओं को जागरुक किया जा रहा है। मोबाइल पर “मोमो” खेलने की चुनौती मिलने पर अविलंब स्थानीय थाने को सूचित करने को कहा गया है। सीआईडी से भी संपर्क करने को कहा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here