गाजे-बाजे से बारात पहुंच चुकी थी। खूब स्वागत सत्कार हुआ। मंडप भी सज गया था। सात फेरे होने ही वाले थे, मगर काफी देर तक दुल्हन मंडप में नहीं आई। पता चला कि दुल्हन किसी ‘कालिया’ नाम लड़के के साथ भाग गई। यह जानकर एक बारगी तो दूल्हे के होश उड़ गए। बाद दूल्हा अपने पक्ष के लोगों को लेकर पुलिस थाने पहुंचा और दुल्हन को ढूंढ़कर लाने की मांग की।

बांसवाड़ा का दुल्हन के भागने का मामला मामला राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के खमेरा पुलिस थाना इलाके के गांव पादरपाड़ा का है। दरअसल, सवनिया ग्राम पंचायत के पादरापाड़ा गांव की कला कुमारी की शादी पड़ोली पंचायत के बिजोर निवासी विकास के साथ तय हुई थी। दोनों की शुक्रवार को शादी होने थे और सुबह छह-सात बजे फेरे का समय तय किया गया था।

आदिवासी रिवाज से हुई थी रस्में इससे पहले आदिवासी रिवाज के अनूसार हल्दी, आभूषण चढ़ाने सहित सभी रस्मे पूरी हो चुकी थीं। दूल्हे के घर गुरुवार को नोतरा भी रस्म हो गया, लेकिन शुक्रवार तडक़े बिजोर गांव के लोग बारात लेकर पहुंचे तो मालूम हुआ कि यहां पादरापाड़ा से दुल्हन फरार हो चुकी है। ऐसे में कुछ देर इंतजार करने के बाद बैंडबाजे एवं घोड़ी को रवाना कर दूल्हा बारातियों के साथ खमेरा थाने पहुंचा और घटना की जानकारी देकर थानेदार से कहा कि साहब दुल्हन ला दो।

कालिया के खिलाफ दर्ज करवाया मामला इधर, दुल्हन के पिता ने रामली निवासी कालिया पुत्र लक्ष्मण पर उसकी बेटी को आभूषण समेत भगाने की आशंका जताते हुए रिपोर्ट दी। इस बीच, दूल्हे और दुल्हन के परिवारों के बीच समाजस्तर पर भांगजड़ा भी शुरू हुआ, जो दिनभर जारी रहा। पुलिस ने दुल्हन के पिता कि रिपोर्ट पर छानबीन शुरू कर दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here